0 comments

वे मुस्काते फूल, नहीं
जिनको आता है मुर्झाना,
वे तारों के दीप, नहीं
जिनको भाता है बुझ जाना।
वे नीलम के मेघ, नहीं
जिनको है घुल जाने की चाह,
वह अनन्त रितुराज, नहीं
जिसने देखी जाने की राह।

About the Author

Related Posts

मूल नाम :  प्रभा खेतान भाषा :  हिंदी विधाएँ : कहानी जीवनी   प्रभा खेतान जन्म( 1 नवम्बर 1942)...

परिचय मूल नाम : कमला नाथ शर्मा जन्म : मार्च 1946 भाषा : हिंदी, संस्कृत विधाएँ :...